TECHNOLOGY

Sanchar Madhyam Kya Hai – संचार माध्यम किसे कहते हैं ?

Written by qdpdc

हमे डाटा ट्रांसफर करने के लिए किसी ना किसी माध्यम की आवश्यकता होती है अगर हम किसी एक कंप्यूटर से टर्मिनल तक डाटा भेजते है या फिर टर्मिनल से कंप्यूटर तक भेजते हैं इन दोनों सिचुएशन में हमें किसी ना किसी माध्यम की आवश्यकता जरूर पड़ेगी इसी माध्यम को हम संचार माध्यम कहते हैं इसे कम्युनिकेशन लाइन के नाम से भी जाना जाता है दोस्तों कम्युनिकेशन लाइन जितनी अच्छी हो गया हमारा डाटा उतनी ही अच्छी तरह से एक जगह से दूसरी जगह तक जाएगा आज के समय में कई प्रकार के संचार माध्यम का इस्तेमाल किया जा रहा है जिनके बारे में नीचे बनाया गया है ।

Wired technology

इस तकनीक से जो हमारा डाटा एक जगह से दूसरी जगह तक जाता है वह तारों के माध्यम से जाता है इन तारों के द्वारा डाटा संसार के किसी भी विशेष पथ से होता हुआ कहीं पर भी भेजा जाता है इस प्रकार के तार तीन प्रकार के होते हैं ।

Twisted pair cable

इस प्रकार के तार में एक या दो जोड़े तारों को एक साथ गूंथा जाता है जब कॉपर के तार पास पास होते हैं और जब उन में करंट बहता है उसी स्थिति में यह तार आपस में इंटरफेयरनेस पैदा करते हैं इसको हम साधारण भाषा में क्रॉस टॉक भी कहते हैं इस प्रकार हम तारों को आपस में गूथकर इस क्रॉस टॉक कम कर सकते हैं ।

Coaxial cable

इस प्रकार की केवल में दो तरह के कंडक्टर होते हैं जो एक ही अक्ष पर होते हैं इनमें से एक ठोस कॉपर वायर होता है इसको प्लास्टिक फोन इंसुलेशन से पूरी तरह ढक दिया जाता है दूसरे को दूसरे कंडक्टर से कवर किया जाता है और तार की जाली से भी इसके ऊपर कवर किया जाता है इस जाली का इस्तेमाल बाहर के प्रभाव को कम करने के लिए किया जाता है सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले केबल यही होती है ।

Fiber Optical Cable

इस प्रकार की केवल में हमारा डाटा इलेक्ट्रिकल माध्यम में ना चल कर तरंग के माध्यम में चलता है यह अन्य की तुलना में सबसे बेहतर होता है लेकिन यह बहुत महंगा आता है इसीलिए इसका इस्तेमाल बहुत कम किया जाता है ।

Wireless technology

वॉयरलैस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल आज धीरे-धीरे बढ़ रहा है क्योंकि केवल महंगी आती हैं और इनके रखरखाव में अत्यधिक सतर्कता बरतनी पड़ती है केवल अगर खराब हो जाती है तो पूरे केबल बदलने में बहुत ज्यादा खर्च आता है उसको बदलकर नयी करने के लिए हमें कई सारे टेक्नीशियन की जरूरत पड़ती है इसीलिए अब वायरलेस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल होने लगा कुछ विशेष वायरलेस टेक्नोलॉजी के नाम नीचे दिए गए हैं ।

Satellite communication

इस प्रकार के वायरलेस कम्युनिकेशन में हमारा डाटा एंटीना के माध्यम से एक स्थान से दूसरे स्थान तक भेजा जाता है इसकी मुख्य खासियत यह होती है कि इसमें हमारा मुख्य सेटेलाइट जो सिग्नल को एक स्थान से दूसरे स्थान तक बेचने का काम करता है वह पृथ्वी से 50000 किलोमीटर दूर स्थित होता है इसी के कारण मोबाइल संचार भी होता है लोकल एरिया नेटवर्क से केबल मीडिया के द्वारा सेटेलाइट को सिग्नल भेजा जाता है जो सिग्नल को सेटेलाइट की तरफ बीम करता है ऑर्बिट में स्थित एंटीना सिग्नल को जमीन पर लगे दूसरे एंटीना की और भेज देता है इस प्रकार हमारा डाटा एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाया जाता है इसके द्वारा कितनी भी दूरी पर सिग्नल पहुंचाया जा सकता है और इसमें समय भी बहुत कम लगता है ।

Radio wave transmission

दोस्तों जब दो टर्मिनल रेडियो आवृत्ति होे तब‌ इस माध्यम से सूचना को एक स्थान से दूसरे स्थान तक भेजते हैं इस प्रकार जो कम्युनिकेशन होता है उसको हम रेडियो वेव कम्युनिकेशन कहते हैं यह तरंगे सभी दिशा में चलने लायक होती हैं इसीलिये इनका उपयोग तब किया जाता है जब हमें बहुत दूर डाटा को भेजना होता है ।।

Mocrowave Transmission

इस इस प्रकार के टेक्नोलॉजी में हमारा डाटा बिल्कुल खुली तरह से बिना किसी माध्यम के रेडियो सिग्नल की तरह एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचता है यह सिस्टम में सूचना का आदान प्रदान आकृतियों के माध्यम से किया जाता है माइक्रोवेव में इलेक्ट्रोमैग्नेटिक तरंगों होती हैं जिनकी आवृत्ति लगभग 0.3 GHz से 300 GHz तब तक होती है ।

Infrared wave transmission

दोस्तों इस प्रकार की तकनीक का उपयोग करके बहुत कम दूरी में सिग्नल को भेजा जाता है जब सिग्नल को अत्यंत कम दूरी में भेजना होता है तब हम इस तकनीक का उपयोग करते हैं क्योंकि इसमें उपयोग की जाने वाली उच्च आवृत्ति की तरंग होती है जो किसी भी ठोस ऑब्जेक्ट जैसे की दीवार के पार नहीं जा सकती हैं घर में उपयोग किए जाने वाली टीवी का रिमोट तथा एसी का रिमोट आदि इसी तकनीक से काम करते हैं ।

तो दोस्तों यह आपके लिए इंटरनेट संचार से संबंधित छोटी सी जानकारी थी जिसमें हमने आपको संचार माध्यम के लाभ और हानि तथा संचार के तरीकों के बारे में बताएं ऐसे ही और जानकारी पाने के लिए आप हमारे साथ बने रहे अगर आपका कोई डाउट है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं बहुत-बहुत धन्यवाद ।

About the author

qdpdc

Leave a Comment